Archieved Data

Publishing Year : 2023

December To February
  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 The paper identifies and analyzes the causes that affect non-performing assets (NPAs), hinder its effective observance, and recommends appropriate measures to ensure their effective monitoring and control. The banks selected for this research work are having higher NPAs and are top banks in their sector. As per the Global Financial Stability Report of International Monetary Fund (IMF, 2009), identifying and dealing with distressed assets, and recapitalizing weak but viable institutions and resolving failed institutions are stated as the two of the three important priorities which directly relate to NPAs. This research work finds the reasons for non-performing loans. Sectoral disparities in the NPA ratio to advances in public and private sector banks were the main source of motivation to analyze and compare factors affecting non-performing assets (NPAs) of public and private sector banks in India. The article paper presents the comparison between the private sector banks and public sector banks is to outcast the impact between them and the reasons behind the banks on non-performing assets and to suggest the way to reduce the non-performing assets and also causes for the increase in non-performing assets.

Read Keyword

 Non-Performing Assets, Profitability, Banks, Public Sector, Private Sector, Bank Credit.

Read Reference

  1. Priyanka Mohanani, Monal Deshmukh 2013" A study of Non –Performing Assets on Selected Banks”, International journal of Science and Research (IJSR) Volume 2 Issue 4 India online ISSN: 2319-7064, April, pp. 278-281

2. Kiran.N.K..The Evidence of Efficiency Gains: The Role of Mergers and the Benefits Seema GavadeKhompi the Public. Journal of Banking and Finance.1999;23: 991-1013. 
3. Avinash V.Raikar.Co-operative Credit Institutions in India: An Overview. Indian Co-operative Review. 2002;.44(1):1-20. 
4. Pacha Malyadri. S. Sirisha. A Comparative Study of Non Performing Assets in Indian.International Journal of Economic Practices and Theories. 2011;1(2): e-ISSN 2247 – 7225. 
5. Bhatia .S. and Verma. S. Factors Determining Profitability of Public Sector Banks in India: An Appreciation of Multiple Regression Model.Prajanan. 1998-1999; XXVII(4):433-445.
6. Kaveri .V.S. Performance of Non-performing assets suggested strategies. IBA Bulletin. August 2001; XXIII(8): 7-9.
7. Mayilsamy. R.Non-Performing Assets in Short Term Co-operative Credit Structure - An Overview. Tamil Nadu Journal of Co-operation. 2007;.7(12): 62-66. 
8. Asha Singh.Performance of Non-Performing Assets in Indian Commercial Banks. International Journal of Marketing, Financial Services & Management Research. 2013;2(9). 
9. Srinivas K T. A study on Non- Performing Assets of Commercial Banks in India. Abhinav International Monthly Refereed Journal of Research in Management & Technology. ISSN – 2320- 0073. Decembe, 2011; II: 61-69. 
10. Seema Gavade-Khompi. A Comparative Trend Analysis of Non-Performing Assets ofCommercial Banks in India. Research Directions. November 2013;1(5). ISSN:-2321-5488.
11. Business Standard- Banking Annual, January 2018; 9(1):23-26.

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 In India, the banking sector plays an essential role in the economy and contributes to a key source of financial intermediation. It promotes the mobilization of savings by individuals and businesses and encourages them to make productive investments. Providing security, liquidity, and support for different economic activities is a pillar of the economy that contributes to overall socioeconomic development. In this study, five-five leading private and public sector banks were taken based on market capitalisation.  The period of the study was 2019-20 to 2021-22, for which secondary data was selected. The study was conducted to know the leading public and private sector banks and their reach across the country, and also to study the net interest margin of these banks. 

Read Keyword

 Indian Banking Structure, Net Interest Margin, Market Capitalization, Indian Econom

Read Reference

  1. Antil. P and Aggarwal. A (2017). A study of Indian banking sector. International journal of multidisciplinary research and development, 4(6):366-368. 

2. Cetorelli, n., & gambera, m. (2001). Banking market structure, financial dependence and growth: international evidence from industry data. The Journal of finance, 56(2), 617-648. https://doi.org/222576
3. Das.S and Dutta. A (2014). A study on npa of public sector banks in India. IOSR-journal of business and management,16(11):75-83. 
4. Dharwad, S.C. and Tamragundi, A.N. (2019), Growth and Development of Indian Banking Sector - A Collective Study, International Journal for Research in Engineering Application & Management, 5(1): 2454-9150
5. Haralayya, dr & aithal, sreeramana. (2021). Study on structure and growth of banking industry in India. 4. 225-230.
6. https://www.rbi.org.in/
7. Hundal.A and Singh.M (2016). Performance evaluation of public and private sector banks in India: A comparative study. Paripex-Indian journal of research, 5(4):237-242. 
8. Khanna. M and kaushal.s (2013). Growth of banking sector in India: a collective study of history and its operations. Asian Journal of advanced basic science, 2(1):36-45. 
9. Limbore nilesh. V and mane baban. S (2014). A study of banking sector in india and overview of performance of indian banks with reference to net interest margin and market capitalization of banks. Review of research journal, 3(6):1-8. 
10. https://investyadnya.in/
11. https://www.statista.com/
12. https://www.wishfin.com/

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 वैश्वीकरण एक जटिल घटना है जिसने मानव जीवन के हर पहलू को प्रभावित किया है, जिसमें लैंगिक भूमिकाएं और संबंध शामिल हैं। महिलाएं कई तरह से प्रभावित हुई हैं और भारत इसका अपवाद नहीं है। प्रस्तुत शोधपत्र भारत में महिलाओं पर वैश्वीकरण के प्रभाव की जांच करता है, तीन प्रमुख क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करता हैः आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक। अध्ययन से पता चलता है कि जहां वैश्वीकरण ने भारत में महिलाओं के लिए नए अवसर पैदा किए हैं, वहीं इसने लैंगिक असमानताओं और भेदभाव को भी कायम रखा है। लैंगिक समानता को बढ़ावा देने और महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य से नीतियों को स्थानीय संदर्भ को ध्यान में रखना चाहिए और भारत में महिलाओं की जरूरतों और आकांक्षाओं के प्रति उत्तरदायी होना चाहिए। वैश्वीकरण ने लाभ और चुनौतियां दोनों लाते हुए दुनिया को बदल दिया है। इसने आर्थिक विकास और गरीबी में कमी लाने में योगदान दिया है, इसने आय असमानता, पर्यावरणीय गिरावट और कुछ क्षेत्रों में नौकरियों के नुकसान में भी योगदान दिया है। वैश्वीकरण ने आर्थिक असमानता, पर्यावरणीय गिरावट और सांस्कृतिक समरूपता सहित महत्वपूर्ण चुनौतियाँ भी पेश की हैं। व्यापार और निवेश नीतियों के उदारीकरण ने प्रतिस्पर्धा में वृद्धि की है और नौकरी के नुकसान और कुछ क्षेत्रों में मजदूरी में गिरावट आई है।

Read Keyword

मीडिया, महिला शिक्षा, महिला एवं समाज, वैश्वीकरण, महिला।

Read Reference

  1. एंडियप्पन, वी., और वान, वाई। (2020), प्रक्रिया प्रणाली इंजीनियरिंग में विशिष्ट दृष्टिकोण, कार्यप्रणाली, विधि, प्रक्रिया और तकनीक, स्वच्छ प्रौद्योगिकी और पर्यावरण नीति, 22 (3)

2. बंसोडे, एस., अंकुश, जी., मांडे, जे., और सुरदकर, डी. (2013), अपने सदस्यों के सामाजिक-आर्थिक विकास पर एसएचजी का प्रभाव, जर्नल ऑफ़ कम्युनिटी मोबिलाइज़ेशन एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट, 8(1)
3. जायसवाल, ए. (2014), भारतीय ग्रामीण महिलाओं पर वैश्वीकरण के प्रभाव पर एक मानवशास्त्रीय दृष्टिः एक महत्वपूर्ण वास्तविकता। 
4. सिंह, एस., और होगे जी., (2010), “कामकाजी“ महिलाओं के लिए वाद-विवाद के परिणामः भारत से चित्रण। 
5. दासगुप्ता, के. (2003, 31 जुलाई), वैश्वीकरण और भारतीय महिलाः समस्याएं, संभावनाएं और सूचना।
6. जी.के.आज. (2017, 31 अक्टूबर), भारत में महिलाओं पर वैश्वीकरण के प्रभाव। 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 Internet gaming plays a major role in the lives of teenager because of the time gradually increasing time window that they spend on gaming. Teens rely on social media to connect with friends. A significant amount of their social interaction takes place online as the games are connected to their social media id(s) too, in case of role playing group gaming. The main motive of unwinding and recreation has undergone massive changes and this has turned itself into addiction. This paper aims at defining the technology addiction via gaming discussing the various reasons of addiction. Asides that the changeover from engagement to technology addiction is also discussed along with the positive and negative effects of online gaming amongst teenagers.

Read Keyword

 Internet Gaming, Addiction, Teenagers, New media games.

Read Reference

  1. Basol, G., & Kaya, A. B. (2017). A Scale Development Study: Motives and Consequences of Online Game Addiction. Noro Psikiyatri Arsivi. https://doi.org/10.5152/npa.2017.17017

2. Choi, K.-H. (2022). 3D dynamic fashion design development using digital technology and its potential in online platforms. Fashion and Textiles, 9(1), 9. https://doi.org/10.1186/s40691-021-00286-1
3. Hazar, Z. (2018). Children’s Digital Game Addiction and Opinions About Their Parents’ Playing Digital Games ( A Mixed Method Study). Journal of Education and Training Studies, 7(1), 85. https://doi.org/10.11114/jets.v7i1.3785
4. Kivijärvi, M., & Katila, S. (2022). Becoming a Gamer: Performative Construction of Gendered Gamer Identities. Games and Culture, 17(3), 461–481. https://doi.org/10.1177/15554120211042260
5. Kuss, D. J., & Griffiths, M. D. (2012). Adolescent online gaming addiction. 1, 3.
6. Makarova, E. L., & Makarova, E. A. (2019). Aggressive Behavior in Online Games and Cybervictimization of Teenagers and Adolescents. Lnternational Electronic Journal of Elementary Education, 12(2), 157–165. https://doi.org/10.26822/iejee.2019257663
7. Anderson, C. A. (2001). Human Aggression. HUMAN AGGRESSION, 28.
8. Cheah, I., Shimul, A. S., & Phau, I. (2022). Motivations of playing digital games: A review and research agenda. Psychology & Marketing, 39(5), 937–950. https://doi.org/10.1002/mar.21631
9. Dewhirst, A., Laugharne, R., & Shankar, R. (2022). Therapeutic use of serious games in mental health: Scoping review. BJPsych Open, 8(2), e37. https://doi.org/10.1192/bjo.2022.4
10. Gentile, D. A., Bailey, K., Bavelier, D., Brockmyer, J. F., Cash, H., Coyne, S. M., Doan, A., Grant, D. S., Green, C. S., Griffiths, M., Markle, T., Petry, N. M., Prot, S., Rae, C. D., Rehbein, F., Rich, M., Sullivan, D., Woolley, E., & Young, K. (2017). Internet Gaming Disorder in Children and Adolescents. Pediatrics, 140(Supplement_2), S81–S85. https://doi.org/10.1542/peds.2016-1758HH11040688 S219.pdf. (n.d.).
11. Ho, C. M. (2022). League of Legends or World of Warcraft? The effect of political ideology on consumers game choice. Journal of Consumer Marketing, 39(3), 257–266. https://doi.org/10.1108/JCM-12-2020-4298
12. Kuss, D. J., & Griffiths, M. D. (2012). Online gaming addiction in children and adolescents: A review of empirical research. Journal of Behavioral Addictions, 1(1), 3–22. https://doi.org/10.1556/JBA.1.2012.1.1
13. Lobel, A., Engels, R. C. M. E., Stone, L. L., Burk, W. J., & Granic, I. (2017). Video Gaming and Children’s Psychosocial Wellbeing: A Longitudinal Study. Journal of Youth and Adolescence, 46(4), 884–897. https://doi.org/10.1007/s10964-017-0646-z
14. Scott, J., & Porter-Armstrong, A. P. (2013). Impact of Multiplayer Online Role-Playing Games upon the Psychosocial Well-Being of Adolescents and Young Adults: Reviewing the Evidence. Psychiatry Journal, 2013, 1–8. https://doi.org/10.1155/2013/464685
15. Wang, C. (2022). Regulating Macao’s casino gaming: Two decades of development and prospects. Asian Education and Development Studies, 11(2), 287–297. https://doi.org/10.1108/AEDS-02-2020-0030

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 पर्यावरण मानव जीवन पद्धति के लिए यदि अनिवार्य अंग है तो इसका संरक्षण और बचाव भी मानव का परम कर्त्तव्य बन जाता है। पर्यावरण संरक्षण मानवीय जीवन के लिए अति आवश्यक विषय-वस्तु बन गया है। इस दिशा में वैश्विक एवं भारत दोनों ही स्तरों पर अनेक प्रयास एवं आन्दोलन अनवरत जारी है। पर्यावरण संरक्षण में स्त्री की भूमिका महत्वपूर्ण है। पर्यावरण को बचाने के लिए स्त्रियों ने योगदान दिया है। महिलायें वैदिक काल से ही पर्यावरण संरक्षण के पक्ष में रही है, उसका उदाहरण तुलसी पूजा एवं वट वृक्ष पूजा है। भारतीय महिलायें सदैव इस दिशा में कार्यशील रही है। हमारी भारतीय ंसंस्कृति को देखने पर रीति-रिवाजों, परम्पराओं में पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरुकता दिखाई देती रही है। भारतीय महिलायें सदैव से ही पर्यावरण संरक्षण में पुरुषों से आगे रही हैं, इसका पता हमें विभिन्न पर्यावरण संरक्षण के आन्दोलनों का अध्ययन करने पर चलता है। महिलाओं ने पर्यावरण व वनों की रक्षा के लिये कई आन्दलनों में भाग लिया इनमें अग्रणी भमिका निभायी है और अपने प्राणों की आहूति तक दी है। कार्ल मार्क्स का कथन है कि ‘‘सृष्टि में कोई भी बड़े से बड़ा सामाजिक परिवर्तन महिलाओं के बिना नहीं हो सकता’’। अतः महिलाओं ने सदैव ही पर्यावरण संरक्षण की बात की है।

Read Keyword

 पर्यावरण संरक्षण, आन्दोलन, महिलायें, प्राकृतिक वातावरण।

Read Reference

  1. गर्ग, बी.एल. (2003). पर्यावरण प्रकृति और मानव, शब्द साधना, अजमेर, प्रथम संस्करण।

2. ओझा, डी.डी. (1999). पर्यावरण अवबोध, पवन कुमार शर्मा, साईन्टिफिक पब्लिशर्स, जोधपुर।
3. चातक, गोविन्द (1991). पर्यावरण और संस्कृति का संकट, तक्षशिला प्रकाशन, नई दिल्ली, प्रथम संस्करण।
4. सक्सेना, एच.एम. (1994). पर्यावरण तथा परिस्थितिकी भूगोल, राजस्थान हिन्दी ग्रन्थ अकादमी, जयपुर।
5. साहू, बनवारी लाल (1997). पर्यावरण संरक्षण एवं खेजड़ी बलिदान, बोधि प्रकाशन जयपुर 302015 द्वारा प्रकाशित।
6. सिंह, राजीव कुमार, (2009). पर्यावरण संरक्षण एवं सतत विकास, पोइन्टर पब्लिशर्स, जयपुर।
7. यादव, वीरेन्द्र सिंह, (2010). 21वीं सदी का पर्यावरवण आन्दोलन : चिन्तन के विविध आयाम, ओमेगा पब्लिकेशन्स, नई दिल्ली।
8. सक्सेना, एच.एम.,(2009). पर्यावरण संरक्षण एवं सतत विकास, पोइन्टर पब्लिशर्स, जयपुर।
9. शर्मा, डॉ. मालती (2011). पर्यावरण अध्ययन, शिवांक प्रकाशन, दिल्ली प्रथम संस्करण।
10. दैनिक शस्कर, जयपुर।
11. दैनिक जागरण, नई दिल्ली।
12. दी हिन्दू समाचार पत्र कस्तूरबा एण्ड सन्स लिमिटेड, नई दिल्ली।
13. कुरूक्षेत्र प्रकाशन विभाग, नई दिल्ली।
14. नई दुनिया, जगदलपुर, छत्तीसगढ़।
15. https://dprcg.gov.in
 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 प्रेमचंद्र जी समग्र के कथाकार हैं। गोदान में सबकी कथा है, किन्तु पहले गाय को लें। गाय से कथा आरम्भ होती है, गोदान पर समाप्त होती है। प्रेमचंद्र व्यवस्था, व्यक्ति और विचार तीनों में सुधार और समन्वय चाहते हैं। वे किसी वर्ग के लिए नहीं सम्पूर्ण मनुष्य के लिये चिंतित हैं। हर किसान को गाय चाहिए गोरस के लिये, बैल के लिये, गोबर (खाद) के लिये। आवश्यकता और उपयोगिता की चेतना ने गाय को पूज्य बना दिया। गोदान का ढाँचा ऊपर से आर्थिक- राजनीतिक है, किन्तु मानवी और सांस्कृतिक है। गाँव और शहर अलग-अलग अर्थव्यवस्था वाले हैं। गाँव भारत की पहचान हैं, यदि सही अर्थों में भारत को जानना है तो हमें भारत और भारतीय ग्रामों को जानना होगा। गोदान अपने रचना-काल के सम्पूर्ण भारतीय जनमानस की महागाथा है। मुन्शी प्रेमचंद्र के कालजयी उपन्यास गोदान को अनेक तरह से व्याख्यायित और विश्लेषित किया गया है। प्रस्तुत शोध पत्र में ग्रामीण जीवन के परिप्रेक्ष्य में गोदान का विवेचन किया गया है। 

Read Keyword

 सांस्कृतिक, जनमानस, परिप्रेक्ष्य, गोदान।

Read Reference

  1. प्रेमचंद, गोदान, पृष्ठ क्र. 45, 47, 98, 262, 277, 278।

2. मिश्र सत्यप्रकाश, गोदान का महत्व, पृष्ठ क्र. 71, 73, 75।
3. गोस्वामी हरिहर प्रसाद, गोदान पर एक दृष्टि, पृष्ठ क्र. 231।
4. कुमार राकेश, गोदान - इक्कीसवीं सदी का सच, पृष्ठ क्र. 11-17।
5. झारी कृष्णदेव, मुन्शी प्रेमचंद्र वृत गोदान, पृष्ठ क्र. 98।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 ऐतिहासिक रूप से भारत में कई पड़ोसी देशों के शरणार्थियों आए हैं। शरणार्थी राज्य के लिये एक समस्या बन जाते हैं क्योंकि इससे देश के संसाधनों पर आर्थिक बोझ बढ़ जाता है साथ ही अवधि में जनसांख्यिकीय परिवर्तन में वृद्धि कर सकता है, इसके अतिरिक्त सुरक्षा जोखिम भी उत्पन्न हो सकता है। भारत में शरणार्थियों की समस्या विभाजन के बाद शुरू हुई और इसके बाद भोजन, आश्रय, दवा, स्वच्छता जैसी बुनियादी जरूरतों से लेकर अपनी मातृभूमि को खोने की भावनात्मक उथल-पुथल तक कई मुद्दों का सामना करना पड़ा। इससे सीमाओं के दोनों ओर शरणार्थियों में वैमनस्य की भावना भी पैदा हो गई, जो अपने नुकसान के लिए दूसरे राष्ट्र के लोगों को जिम्मेदार मानते है। हालांकि शरणार्थियों की देखभाल मानवधिकार प्रतिमान का मुख्य घटक है। इसके अलावा किसी भी स्थिति में भारत में शरणार्थी प्रवास के भू-राजनीतिक, आर्थिक, जातीय और धार्मिक संदर्भों को देखते हुए इसके जल्द समाप्ति की संभावना नहीं दिख रही है। 

Read Keyword

 शरणार्थियों, शरण एवं संरक्षण, आश्रय।

Read Reference

  1. ww.dhyeyaisa.com

2. ww.dristiisa.com
3. wwf.mreview.org
4. wwf.oreigpolicy.com
5. ww.hindilibraryindia.com
6. ww.isa4sure.com
7. ww.isaexpres.com
8. ww.indisapend.com
9. ww.lowyinstitute.org
10. ww.macrotrends.net
11. ww.migrationpolicy.org
12. ww.ohindi.in.com
13. ww.orfonline.com
14. ww.toppr.com
15. ww.unacademy.com

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 Morphological characters are features of external form or appearance. They currently provide the characters used for practical identification and some of those used for hypothesizing phylogenetic relationships. These features have been used for a longer time than anatomical or molecular evidence, and they were the only source of taxonomic evidence in the beginnings of plant systematics. Morphological characters are easily observed and find practical use in keys and descriptions; the characters used in phylogeny reconstruction may not so easily observed. Characters of both sorts are found in all parts of the plants, both vegetative and reproductive. The objective of the present study was to morphological characterization of three species of Indigofera viz., Indigofera endecaphylla Jacq., Indigofera enneaphylla Linn. and Indigofera linifolia (L.f.) Retz. through some qualitative and quantitative morphological parameters. Characters of plant, leaf, inflorescence, flower, fruit and seed were taken into account. The most significant morphological parameters differentiate three species were: habit, stem nature, leaf type, length of leaf rachis, number of leaflets, pod shape & arrangement and seed per pod, seed shape & colour.

Read Keyword

 Morphological Characterization, Indigofera, Plants Systematics, Vegetative, Reproductive.

Read Reference

  1. Edeoga, H.O. and A.U. Eboka, 2000. Morphology of the leaf epidermis and systematics in some  dissotisbenth species. (Melastomataceae) Global J. Pure and Applied Sci.6: 371-374.

2. Gbile, Z.O., 1976. Taxonomic studies of Triplochiton scleroxylon K. Schum. Proceedings of the Symposium on Variation and Breeding Systems of Triplochiton Scleroxylon (K. Schum.), April 21-28, Nigeria, Federal Department of Forest Research, Ibadan, Nigeria, pp: 19-27.
3. Hassen, A., N.F.G. Rethman and Z. Apostolides, 2006.  Morphological and agronomic characterisation of Indigofera  species  using multivariate analysis. Trop. Grasslands, 40 pp: 45-59.
4. Hemtzelma, CE. And R.A.Howard, 1948. The comparative morphology of the Icacinaceae. The pubescence and crystal. Bot. Rev., 46 pp: 361– 427.
5. Marquiafável, F.S., M.D. Ferreira and S.P. Teixeira, 2008. Novel reports of glands in Neotropical species of Indigofera L. (Leguminosae, Papilionoideae). Flora-Morphol. Distrib. Funct. Ecol. Plants, 204: 189-197.
6. Nwachukwu, C.U. and F.N. Mbagwu, 2007. Leaf anatomy of eight species of Indigofera L. Agric. J., 2 pp: 149-154.
7. Nwachukwu, C.U. and H.O. Edeoga, 2006. Tannins, starch and crystals in some species of Indigofera L. (Leguminosae-Papilionoideae). Int. J. Bot., 2 pp: 159-162.
8. Nwachukwu, C.U., 1997. Characterization of Maesobotrya barteri- var barteri M.Sc. Thesis Imo state University, Nigeria.
9. Okeke, S.E. and C.U. Nwachukwu, 2001. Characterization of Maesobotrya barteri var barteri. Nig. J.Bot, 13 pp: 70 – 80.
10. Okwulehie, I .C. and B.E. Okoli, 1999. Morphological and palynological studies in some species Corchonos L.Tiliaceae. New Botanist., 25 pp: 87-101.
11. Schrire, B.D. 1995. Evolution of the tribe Indigofereae (Leguminosae-Papilionoideae). In Crisp, M. & Doyle, J.J. (eds.). Advances in legume systematic vol. 7: phylogeny, pp: 161-244. Royal Botanic Gardens: Kew.
12. Hanelt, P. 2001. Leguminosae subfamily Papilionoideae (Fabaceae). In Mansfield’s  Encyclopaedia of  Agricultural and Horticultural Crops, vol.2 pp: 635-927.( P. Hanelt, ed.). Springer, Berlin.
13. Sanjappa, M. 1995. Leguminosae-papilionoideae Tribe: Indigofereae Fasc. Fl. India vol. 21. Pp:  1-160 ilust.
 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 भारत में जल संरक्षण का बहुत पुराना इतिहास है यहां जल संरक्षण कि एक मूल्यवान पारंपरिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक परंपरा है जो हड़प्पा सभ्यता वैदिक काल से उत्तर वैदिक के साक्ष्यों में परिलक्षित होती है।

Read Keyword

 जल, पुरातात्विक, धरोहर, जोहड़, संग्रहण, साहित्य।

Read Reference

  1. पाण्डेय जे.एस., ऋग्वेदिक समाज, ऋग्वेद, 11.11.2002।

2. श्रीवास्तव, के.सी., प्राचीन भारतीय इतिहास, पेज नंबर 57।
3. पाण्डेय जे.एन., सिंधु घाटी सभ्यता।
4. प्राचीन भारतीय इतिहास, झारखंड श्रीयाली पेज नंबर 102,108,109।
5. वैदिक कालीन सामाजिक संरचना पी.एच.डी. शोध कार्य पेज नंबर 201,202।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 स्वातंत्र्योत्तर कथा-साहित्य में कथाशिल्पी राजेन्द्र यादव अपने विशिष्ट कथ्य एवं शैली सम्बन्धी निश्चल किरणों की भाँति स्थितप्रज्ञ थे। उनकी संपादकीय और कथा-लेखन समाज को एक नया आयाम प्रदान करता है। आज़ादी के बाद भारतीय समाज के इर्द-गिर्द मोह भंग, भ्रष्टता, बेरोजगारी, विश्वासहीनता, अकेलापन, स्त्री शोषण, जाति-भेद, आक्रोश, घुटन, अज्ञान आदि मंडरा रहे थे। इन्ही बीच मानव जीवन थम सा गया था। वह नयी जीवन दशाओं, नयी विचारधाराओं, नयी परंपरा जैसे संधान के लिए सक्रिय रहा है। वर्तमान भारतीय समाज पारम्परिक, रुढ़ियों, स्त्री शोषण, संस्कारों, व्याप्त भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, जाति, धर्म भेंद आदि से मुक्ति पाने की कोशिश में लगा है। स्वार्थपरता तथा जीवन गत आपा-धापी के चलते स्त्री के प्रति हीनता बोध, जुल्म सहती स्त्री, धार्मिक परंपराओं से जकड़ी हुई स्त्री, अनमेल विवाह, शिक्षा से वंचित स्त्री, दाम्पत्य जीवन में अस्थिरता, स्त्री का अनजान पुरुष मित्र का होना, घर की चार दीवारों में चित्कारती गूँज अनुगूँज में स्त्री को मानों कैद कर रखा था। स्त्री के इन्ही सामाजिक कुरीतियों, मान्यताओं एवं स्त्री शोषण, स्त्री हीनता जैसे धारणाओं को कथा-शिल्पी राजेन्द्र यादव ने नयी परिस्थियाँ, विचारधाराओं, मान्यताओं तथा नये मूल्यों को अपने कथा-साहित्य कलात्मकता से प्रस्तुत किया है। जो स्त्री को एक नई पहचान भी मिलता है।

Read Keyword

 कथा-साहित्य, सामाज, राजेन्द्र यादव।

Read Reference

  1. ‘राजेन्द्र यादव प्रतिपक्ष की आवाज’, सं. डॉ. विश्वमौली, डॉ. राम बचन यादव, साहित्य भण्डार प्रयागराज, पृष्ठ-216।

2. यादव राजेन्द्र, प्रतिनिधि कहानियाँ, ‘जहाँ लक्ष्मी कैद है’, राजकमल प्रकाशन नई दिल्ली, पृष्ठ-30।
3. यादव राजेन्द्र, प्रतिनिधि कहानियाँ, ‘जहाँ लक्ष्मी कैद है’, राजकमल प्रकाशन नई दिल्ली, पृष्ठ-30।
4. ‘राजेन्द्र यादव प्रतिपक्ष की आवाज’, सं. डॉ. विश्वमौली, डॉ. राम बचन यादव, ‘हंस और राजेन्द्र यादव’ डॉ. शिखा सिंह, साहित्य भण्डार प्रयागराज, पृष्ठ-217।
5. यादव राजेन्द्र, ‘सारा आकाश’ राधाकृष्ण, नई दिल्ली, पृष्ठ-55।
6. ‘स्त्री वजूद की खोज की महागाथा’-मदन कश्यप, ‘पाखी’ पत्रिका राजेन्द्र यादव विशेषांक 2011 गौतम-बुद्धनगर, उ.प्र., पृष्ठ-74।
7. ढानकीकर शोभा, राजेन्द्र यादव के कथात्मक साहित्य में नारी समस्याएँ, चन्द्रलोक प्रकाशन, कानपुर 2011, पृष्ठ-104।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 श्वेत महाद्वीप के रूप में पहचाने जाने वाला अंटार्कटिक महाद्वीप भविष्य में बड़ी शक्तियों के मध्य रस्साकशी का क्षेत्र बनने की आशंका है। अंटार्कटिक संधि प्रणाली के वर्ष 1959 में लागू होने के पश्चात् भी कई देशों ने टेरोटेरियल क्लेम किया हुआ है। भारत वर्ष 1981 से अब तक कुल 41 अभियान दल अंटार्कटिक महाद्वीप में सफलतापूर्वक भेज चुका है। भारतीय अभियान दल पूर्णतः वैज्ञानिक अनुसंधान, अध्ययन एवं प्रशिक्षण तक सीमित रहा है। चूंकि भविष्य की सम्भावित चुनौतियों के दृष्टिगत भारत को अपने उद्देश्य में नवीन बदलाव की आवष्यक्ता है। भारत को अपने अंटार्कटिक बजट में वृ़द्ध तथा नवीन प्रशिक्षण एवं अनुसंधान केन्द्र की आवश्यक्ता हैं।

Read Keyword

 भारत, अंटार्कटिक, बजट।

Read Reference

        1. अंटार्कटिक के पहले भारतीय अभियान की वैज्ञानिक रिपोर्ट, महासागर विभाग, भारत सरकार, 2016.

2. बुश, डब्लु.एम, अंटार्कटिक और अंर्तराष्ट्रीय कानून, अंतर राज्यीय और राष्ट्रीय दस्तावेजों का एक संग्रह, खण्ड -2, प्रकाशक : ओशियाना प्रकाशन, 1982.
3. गाड, एस.डी., इंडिया इन अंटार्कटिका, करंट सांइस, भारतीय विज्ञान अकादमी, 2008.
4. पाण्डेय, पी.सी., इंडिया अंटार्कटिक प्रोग्राम, प्रकाशक टेलर एण्ड फ्रांसिस, 2007.
5. परसूट एण्ड प्रमोशनल ऑफ साइंस - द इंडियन एक्सपीरियंस, इंडियन नेशनल साइंस एकेडमी, नई दिल्ली, 2001.  
6. वालावलकर, एम.जी., अंटार्कटिका और आर्कटिकः भारत का योगदान, करंट साइंस, भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलुरू, 2005.
7. www.antarctic.gov.au.australian antarctic division
8. http://en.m.wikipedia.org>Indian antarctic programme
9. http://pib.gov.in>press release page 15-nov-2021
10. www.moes.gov.in
11. www.ncess.gov.in
 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 “Where the Mind is Without Fear” is a beautiful poem by a noble laureate, Rabindranath Tagore, who expresses his overwhelmed heart in this extremely famous literary composition. He exhibits his far-sightedness for a loving nation by showering his absolute trust in the master of the Universe. This poetic literary piece is well received and appreciated as an inspiration for the women fraternity supporting for an improvement in their social and economic status. Women of our nation shall come out of the shackles of strict domestic four-walls and that is possible by educating them. Education will further lead to social justice to sustain their healthy and strong existence. This thought provoking poem truly conveys an action-idea to eliminate the rudimentary dead habits Like Sati system, Dowry system, and Child marriage etc. from our regular practices working upon the upliftment of our Indian Women. This Research study aims at igniting and raising the voice for the most needed freedom of women. Also women to avail an active support and participation in the nationalist movements and securing eminent positions and offices in administration and public life in free India.  It channelizes the strength so as to empower the women by directing their efforts towards perfection.

Read Keyword

 Rudimentary, Igniting, Empowering women, Women’s freedom and Action.

Read Reference

  1. https://fortnightlyreview.co.uk/2013/04/rabindranath-tagore/ 

2. https://bookmarks.reviews/anjali-enjeti-on-rabindranath-tagores-poetry-and-porochista-khakpours-fearless-criticism/
3. https://learningandcreativity.com/the-conflicts-in-tagore-chitrangada-versus-chandalika/#_edn1

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract
लोक साहित्य मानव जीवन की वास्तविक अभिव्यक्ति है। लोक मानव समुदाय का वह दर्पण जिसमें जीवन के वास्तविक स्वरुप को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप देख सकते हैं। लोक संस्कृति का प्रौढ़ रूप लोक साहित्य है। लोक साहित्य मूलतः लोक बोली में होता है। ‘लोक साहित्य’ साहित्य का आधार बिन्दु है। कथा वस्तु के साथ लोक साहित्य का शिल्प भी छन-छनकर परिनिष्ठत साहित्य तक पहुँचता रहा है। लोक साहित्य में लोकोत्तियाँ का विशेष महत्व है। लोकोत्तियाँ मानव जीवन में गागर में सागर भरने का काम करती है। लोकोत्तियाँ अर्थ व प्रभावपूर्ण होने के साथ -साथ व्यंग्य रूप में सामने वाले व्यक्ति को चोट पहुँचाने के लिये भी प्रयोग में लाया जाता है।
Read Keyword

 लोकसाहित्य, लोकोक्ति, शिल्प।

Read Reference

  1. श्रीवास्तव राजेश, लोक साहित्य, प्रकाशक कैलाश पुस्तक सदन, हमीदि मार्ग, भोपाल, संस्करण-2011

2. अग्रवाल अनसूया, हिन्दी लोक साहित्य शास्त्र सिद्धांत और विकास, पृष्ठ सं. 62ः प्रकाशन- नीरज बुक सेंटर, सी-32, आर्यानगर साजायरी, दिल्ली, संस्करण 2009
3. ओझा मृणालिका, लोक कथाओं में लोक और लालित्य, पृ. 35ः प्रकाशन, शताक्षी प्रकाशन, शाप नंबर 8, मार्कटिंग सेन्टर, चैबे कालोनी, रायपुर, संस्करण 2011

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 नाथ सम्प्रदाय के चार सिद्ध योगीश्वर में गोरखनाथ की आध्यात्मिक चिंतन पद्धति तात्कालीन बौद्धों, शैवों, शाक्तों आदि के विभिन्न समुदायों के अतिरिक्त सर्वथा एक नवीन साधना पद्धति रही है। नाथ परंपरा, निर्गुण परम्परा को प्रेरित-प्रभावित करने वाली एक आध्यात्मिक चिंतन पद्धति थी। इनका अद्वैत, शंकराचार्य के अद्वैत से विलक्षण था, भगवान बुद्ध की चिंतन पद्धति से अलग था। यद्यपि महायान शाखा के बौद्ध साधकों ने तन्त्र और योग पर निष्ठापूर्वक कार्य किया तथा भारतीय तन्त्र एवं योग से तादात्म्य स्थापित करते हुए एक दूसरे में समाविष्ट हो गये। भारतीय दर्शन में योग और तन्त्र प्रणाली के पुरस्कर्ता आदियोगी भगवान शिव माने जाते रहे हैं और नाथपंथ इन्हीं आदियोगी को अपने से जोड़कर देखते हैं। ये बौद्ध धर्म के किसी भी प्रभाव से अपने को अप्रभावित मानते हैं। इनकी अपनी विशिष्ट साधना पद्धति, आचार एवं नियम रहे हैं। सिद्ध होते हुए भी इनकी चिंतन पद्धति सर्वथा विशिष्ट थी। इन्हें सिद्धमत, सिद्ध मार्ग, योगमार्गी, अवधूत सम्प्रदाय, आदि नामों से भी जाना जाता है।

Read Keyword

 शिव, गोरख सिद्ध, नाथ सम्प्रदाय, दर्शन, धर्म, तंत्र।

Read Reference

  1. द्विवेदी ब्रजबल्लभ, आगम और तन्त्रशास्त्र, परिमल पब्लिकेशन दिल्ली, पृष्ठ सं. 60।

2. द्विवेदी हजारी प्रसाद, कबीर, राजकमल प्रकाशन, नई दिल्ली, 2003, पृष्ठ सं. 41।
3. द्विवेदी ब्रजवल्लभ, आगम और तंत्रशास्त्र, परिमल पब्लिकेशन दिल्ली, पृष्ठ सं. 63।
4. शर्मा चन्द्रधर,भारतीय दर्शन : आलोचना और अनुशीलन, मो० ब० प० प्रा० लि० दिल्ली, पृष्ठ सं. 335।
5. द्विवेदी हजारी प्रसाद, हिन्दी साहित्य उद्भव और विकास, राजकमल प्रकाशन, नई दिल्ली, पृष्ठ सं. 30।
6. पांडेय राजबली, हिन्दी साहित्य का बृहद इतिहास, नागरी प्रचारिणी सभा, काशी, पृष्ठ सं. 372।
7. वही।
8. वही।
 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 शोधकर्ता द्वारा जब अपनी शोध समस्या हेतु परीक्षण का निर्माण करना चाहता है तो उसके सम्मुख प्रमुख समस्या यह होती है कि एकांश के पद परीक्षण मे रखने योग्य है अथवा नही। इसी समस्या के समाधान हेतु वह विषय विशेषज्ञों से परामर्श करता है। विषय विशेषज्ञों के दिये गये सुझाव के अनुसार कार्य करता है। एकांश विश्लेषण एक ऐसी प्रविधि है जिसके द्वारा परीक्षण पदो का चयन किया जाता है तथा असंगत एकांशों को निरस्त किया जाता है अथवा उसमे सुधार किया जाता है। परीक्षण के लिए एकांशो का चयन कर उसका विश्लेषण किया जाता हैं तथा परीक्षण के उद्देश्यों की पूर्ति की जाती है। परीक्षण की प्रमुख विशेषताएं परीक्षण के पदो पर निर्भर करती है और उसकी सबसे प्रमुख विशेषता उसकी वैधता होती है। शोधकर्ता द्वारा परीक्षण निर्माण करते समय उसे उत्तम एव प्रभावशाली बनाने के लिए परीक्षण के प्रमुख आयामों का चयन कर उसका अलग-अलग विश्लेषण करता है।

Read Keyword

 शोध, अनुसंधानकर्ता, प्रमापीकृत, स्वनिर्मित मापनी।

Read Reference

  1. सिंह लाल साहब, (1997) मापन, मूल्यांकन एवं सांख्यिकी, साहित्य प्रकाशन,आगरा,उ0 प्र0।

2. मित्तल संतोष, (2008) शैक्षिक तकनीकी एवं कक्षा-कक्ष प्रबन्ध, राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर।
3. सिंह अरूण कुमार, (2010) मनोविज्ञान, समाजशस्त्र तथा शिक्षा मे शोध विधियाँ, मोतीलाल बनारसी दास, पटना।
4. कौल लोकेश, (2007) शैक्षिक अनुसंधान की कार्यप्रणाली, विकास पब्लिशिंग हाऊस, नोएडा,यू.पी.।
5. कुमार दिनेश, (2014) मापन एवं मूल्यांकन, प्रकाशक एम.पी.डी.डी. उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय, हल्द्वानी (नैनीताल)।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 वर्तमान परिपेक्ष्य में बढ़ती हुई अपराध की संख्या निश्चित रूप से एक गंभीर समस्या के रूप में हमारे सामने है, अतः उक्त शोध अध्ययन में पुर्व के कुछ शोधो का अध्ययन कर अपराधो में कमी लाने हेतु कुछ महत्वपूर्ण सुझाव प्रस्तुत किए गए है। अपराध एक अवैधानिक कार्य है जो कि दंडनीय है एवं क्षम्य नही है। वर्तमान परिपेक्ष्य में चोरी, बलवा, दंगा, बलात्कार, दहेज, अपहरण, मारपीट, धोखाधड़ी जैसे विभिन्न अपराधों के साथ-साथ साइबर अपराध भी एक गंभीर समस्या के रूप में हमारे सामने है। निर्धनता, बेरोजगारी, अशिक्षा, कानून व्यवस्था में लचीलापन, आदतन अपराधी जैसे कारण अपराध हेतु उत्तरदायी है जिनके उपाय हेतु लीगल कैम्प, लोगो में जागरूकता, शिक्षा की उच्च स्तर जैसे विभिन्न उपाय किए जा रहे है। बावजूद  अपराध कम होने के बजाय निरंतर बढते जा रहे है। अतः कानून एवं सरकारी प्रयास तभी सफल हो सकते है जब लोग स्वयं अपराध के परिणामों को समझकर अपराध करने से बचे। 

Read Keyword

 अपराध, बेरोजगारी, दहेज प्रथा।

Read Reference

  1. आई.आर 2001 एस.सी. 1820।

2. ए.आई आर. 1965 एस.सी. 722। 
3. 1629 सी.सी. 529।
4. (1837) 8 सी. एण्ड.पी. 136।
5. बावेल बसन्तीलाल, (2005) भारतीय दण्ड सहिता, उन्नीसवां संस्करण 2005।
6. महाजन संजीव, (2017) अपराध शास्त्र एवं दण्डशास्त्र, प्रथम संस्करण 2017,ISBN 81-88775-85-1।
7. परांजपे ना. वि., (2017) अपराध शास्त्र ,दण्ड प्रशासन एवं प्रपीडन शास्त्र अष्ठम संस्करण पुनः मुद्रित (2017) ISBN : 978-93-84961-08-4।
8. दैनिक भास्कर (2022, दिसंबर 31 ) धमतरी पृ. 15।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 Agriculture is the main source of livelihood of the people of West Champaran district of Bihar. 2,78,519 hectares of land out of 4,84,351 hectares land is cultivatable. District is situated on north-west part of Bihar which is rich in soil fertility. After partition during 1950s, many Bangladeshi Hindu migrants were rehabilitated in different parts of the district. At present their population is about 1.5 lakhs. This community is mainly dependent upon the agriculture sector for their livelihood. Paddy, Wheat, sugarcane, and vegetables are main agricultural products they produce. To feed the rapid growth of population it is a challenge to maintain the healthy relationship between production and sustainable agricultural practices. Land and water issues, small and fragmented landholdings, recurring floods, usages of chemical fertiliser, marketing of agricultural produces etc create hurdle in sustainability of agriculture that poses threat to the three pillars of sustainability of environment, economy, and society with harmony. This paper tried to assess the dependency on agriculture as livelihood and sustainability in agricultural practices. Data have been collected from primary as well as secondary sources. Primary data have been collected from Panchayat level by Schedule method. The nature of the paper is descriptive and analytical. This paper also focuses on the possible measures to be taken for retaining the sustainability of agriculture as a source of livelihood in West Champaran.

Read Keyword

 Agriculture, Livelihood, Sustainability, Bangladeshi Migrants.

Read Reference

  1. Acharya S. S., (2006), Sustainable Agriculture and Rural Livelihoods, Agricultural, Economics research review, Volume-19

2. Bairwa S.L., Lakra Kumar, Kushwaha, (2014), Sustainable agriculture and rural livelihood security in India, Journal of Sciences, Volume 04, Issue 10
3. Bandyopadhyay Sekhar, (2020): FROM PLASSEY TO PARTITION AND AFTER: A History of Modern India, Second Edition, Noida, Orient Blackswan.
4. Kumar Pareekshit and Singh Saroj (2022), Rehabilitation and assimilation process of Bangladeshi Hindu Refugee Communities in West Champaran District of Bihar, Shodh Samagam, Volume-05, Issue-03
 
5. Shalaby M.Y., Al-Zahrani Baig, Straquadine, Aldosari(2011), Threats and challenges to sustainable agriculture and rural development in Egypt.: Implications for agricultural extension, The Journal of animal & Plant Sciences.
6. https://vikaspedia.in/agriculture/livestock/income-generation-and-nutritional-security-through-livestock-based-integrated-farming-system
7. District Census Handbook 2011 of Paschim Champaran, 
8. https://western.sare.org/about/what-is-sustainable-agriculture/
9. https://dbtagriculture.bihar.gov.in/krishimis/WebPortal/AboutUs.aspx
10. Annual Reports, Ministry of rehabilitation, Government of India, 1948-58, New Delhi.
11. Data regarding migrated Refugees from Burma and East Pakistan (Bangladesh): Collectorate, West Champaran, Bettiah (District Rehabilitation Branch).
12. “Hindu Refugees from East Pakistan want land, living identity” (2018), Hindustan Times, Bettiah, Bihar
13. “Mudda Aapka: Global Food Crisis” a video clip from Sansad TV uploaded on 18th May 2022
14. “What is Nano Fertiliser?” a video clip from Dhyeya IAS uploaded on 18th July 2022
15. https://westchampasan.kvkrin/district-profile.php

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 Land resource is considered as an important resource as it provides space for all kind of human activities but the haphazard manner of urban land uses exposes as a challenge to its sustainability. Rapid population growth and the process of urbanisation have resulted in an increasing demand for land in urban areas. The mismatch between the supply and demand of land leads to the degradation of the land resources. The rate of urbanisation of Koderma district has increased from 17.4% to 19.72% in 2011 and number of towns has also increased from 2 in 2001 to 5 in 2011. There will be rapid expansion of built-up land, huge quantity of solid waste generation and concentration of slum areas in the cities which will threaten the sustainability of land resources. The concept of sustainable utilization of land resource calls us for the judicious use of it without compromising the needs of future generation. This paper aims at understanding the relationship between the increasing rate of urbanisation and degrading the sustainability of the land resources. For this research paper primary as well as secondary data have been used. Primary data have been collected from interviewing the concerned people and field observation. Secondary data have been collected from various Government reports and municipal offices. The nature of the paper is descriptive and analytical. This paper further suggests the possible steps to maintain the sustainability of land resources and urbanisation in and around the cities.

Read Keyword

 Urbanisation, Land Resource Utilisation, Degradation, Sustainabilty.

Read Reference

  1. Vani, M., and Kamraj, M., (2016). Impact of Urbanisation on Lakes: A case study of Hyderabad Journal of Urban and Regional Studies. Volume 5 Number 1. Retrieved from http://www.academia.edu /36540228/IMPACT_OF_URBANISATION_ON_LAKES_A_Case_Study_of_Hyderabad

2. Kaur, Sandeep,(2017). The effect of urbanisation on environment in India. International Journal on emerging Technologies. Volume 8 Number 1. 122-126 ISSN No (online) : 2249-3255. Published by Research Trend. Website : www.researchtrend.net
3. Harshwardhan.R., and Dr Tripathi, V.K.(2015).Urbanisation and Growth of slum population in Jharkhand : A Spatial Analysis. Space and culture. India , Volume3, Number 1,67-79.
4. District Census Handbook 2001, Koderma
5. District Census Handbook 2011, Koderma
6. www.slideshare.net
7. www.wikipedia.org
8. Singh V.(2011). Urban Geography. New Delhi, Alfa Publication. 
9. https://www.google.com/url?sa=t&source=web&rct=j&url=https://www.mcgill.ca/sustainability/files/sustainability/what-is-sustainability.pdf&ved=2ahUKEwi66tno_qr5AhWN6XMBHc_qA-QQFnoECHkQBg&usg=AOvVaw01HBC_CsrLpMJg0WZ2Ii7P
10. Saroha.J, Sustainable Urbanisation In India:Experiences and Challenges
11. Retrieved from https://link.springer.com/chapter/10.1007/978-94-017-9786-3_5
12. City Sanitation Plan of Koderma Nagar Panchayat
13. City Sanitation Plan of Jhumri Telaiya Nagar Parishad
14. https://udhd.jharkhand.gov.in/Docs/CitySanitationPlan/CSP_Jharkhand%20Submission/Koderma_CSP.pdf
15. https://udhd.jharkhand.gov.in/Docs/CitySanitationPlan/CSP_Jharkhand%20Submission/Jhumriteliya_CSP.pdf
 

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 Financial reporting by way of EVA has the merit of structuring transactions without deluding the stakeholders about the underlying economic performance of the company or influence contractual outcomes that depend on reported accounting numbers. The present paper shall find out how the linkages between the corporate governance and EVA as an regulation, could curb the tradition of putting forward the practice of creative accounting into the positive accounting theory and make the users aware of such a scope is the need of the hour. This study broadly aims at looking out for solutions in bridging the gap in existing knowledge of value based relationship between corporate governance and the wealth measure performance paving the way to mainstream of thinking on ethics without misuse of accounting standards. The study has also contributed to identify the scandals of corporate governance recoiled due to creative accounting by exploring various national and international relevant case studies that have precipitated significant implications on the Indian corporate sector.

Read Keyword

 Corporate Governance, Economic Value Added, Ethics, Creative Accounting.

Read Reference

  1. Aiyar V. Shankar & Abreu Robin, Breach of trust, India Today, October 19, 1998

2. Bawa Salil, Is US-64 strong enough? The Hindustan Times, August 8, 1999
3. Business Line, India -”SC grants bail to JVG group MD”, 1 April, 2000.
4. Business Standard, India “Double trouble for JVG Fin as depositors, staff queue up”, 10 Oct,1997.
5. Business Today, India - A report on “The Troubled Times- ITC Classic Story”, 22 May, 1997.
6. Business Today, India -Rajeev Dubey, “The enigma that is called JVG”, 7 July, 1996.
7. Christopher Wray, “Prosecuting Corporate Crimes” e-Journal, Economic Perspectives, USA, Feb, 2005
8. CNN Reporting News: “Bernie Ebbers gets 25 years for history’s biggest corporate fraud”, Commented by Dr. Madhav Mehra, TV Channel, 13 July, 2005.
9. Dhoot Vikas, Surender T, and Khanduri Manish, “The Fall of the Big Bull”, Business world, April 16, 2001
10. Dr. Madhav Mehra, “Sarbanes Oxley-Ushering an Extraordinary Age of Transparency”, Corporate Governance-International Journal for Enhancing Board Performance,Vol 5.No:2,p-3-5,2005.
11. Ethical Corporation Magazine, p-20, Feb 2005
12. Financial Times, UK, 11 & 15 April 2005.
13. Financial Times, UK, 16 Mar 2005.
14. Financial Times, UK, 18 & 19 April 2005
15. Financial Times, UK, 22 April 2005
16. Financial Times, UK, 7 & 12 Aug 2004.
17. Financial Times, UK, 8 Mar & 17 Jul 2004.
18. Maitra Dilip, Shattered!, Business Today, October 22, 1998
19. Maradia Hemant, The rise and the fall of the big bull, Businessworld, April 11, 2001.
20. News, Corporate Governance-International Journalfor Enhancing Board Performance.
21. Ramachandran K., ITC Classic Finance - Hard Times Ahead, Business Line, November 10, 1996.
22. Business World, “The Ketan Parekh Scam-The Factors that Helped the Man”, 16 April 2001.
23. Sarbanes Oxley Act, July 2002.
24. Sir Bryan Nicholson: “Report of UK Financial Reporting Council”, Trade and Industry Secretary, UK Government, 2004.
25. Sriram N., Dead-end scheme, Business World, July 19, 1999.
26. The OECD Guidelines for Multinational Enterprises, OECD, Paris, 2000.
27. Turnaround in US-64 scheme boosts UTI income, The Hindu, February 29,2000
28. Vaidyanathan S., US-64: Is UTI courting trouble?, Business Line, June 04, 2000.
29. Venkitaramanan S., Distrust in a trust, Business Line, October 26, 1998. Vol:3.No:2,p-39,2003.
30. www.unittrustofindia.com
Foot Note
3. Dr. Madhav Mehra, “Sarbanes Oxley-Ushering an Extraordinary Age of Transparency”, Corporate Governance-International Journal for Enhancing Board Performance,Vol 5.No:2,p-3-5,2005.
4. The OECD Guidelines for Multinational Enterprises, OECD, Paris, 2000.
5. Source: Business Today, India - A report on “The Troubled Times- ITC Classic Story”, 22 May, 1997.
6. Ramachandran K., ITC Classic Finance - Hard Times Ahead, Business Line, November 10, 1996.
7. Source: Business World, “The Ketan Parekh Scam-The Factors that Helped the Man”, 16 April 2001.
8. Dhoot Vikas, Surender T, and Khanduri Manish, “The Fall of the Big Bull”, Business world, April 16, 2001
9. Business Today, India -Rajeev Dubey, “The enigma that is called JVG”, 7 July, 1996.
10. Business Standard, India “Double trouble for JVG Fin as depositors, staff queue up”, 10 Oct,1997.
11. Business Line, India -”SC grants bail to JVG group MD”, 1 April, 2000.
12. Source:www.unittrustofindia.com
13. Turnaround in US-64 scheme boosts UTI income, The Hindu, February 29,2000
14. Aiyar V. Shankar & Abreu Robin, Breach of trust, India Today, October 19, 1998
15. Vaidyanathan S., US-64: Is UTI courting trouble?, Business Line, June 04, 2000.
16. Venkitaramanan S., Distrust in a trust, Business Line, October 26, 1998.
17. Maitra Dilip, Shattered!, Business Today, October 22, 1998
18. Sriram N., Dead-end scheme, Business World, July 19, 1999.
19. Bawa Salil, Is US-64 strong enough? The Hindustan Times, August 8, 1999
20. Maradia Hemant, The rise and the fall of the big bull, Businessworld, April 11, 2001.
21. Christopher Wray, “Prosecuting Corporate Crimes” e-Journal, Economic Perspectives, USA, Feb, 2005

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 हिंदी साहित्य में मैथिलीशरण गुप्त का नाम सर्वविदित है। गुप्त जी का उदय हिंदी साहित्य में ऐसे समय में हुआ जब हिंदी ब्रजभाषा को छोड़ खड़ीबोली अपना रही थी। हिंदी साहित्य में पद्य के समानांतर गद्य को भी महत्व मिल रहा था। वास्तविकता यह है कि हिंदी गद्य साहित्य का यह पल्लवन काल था, विकासकाल था। साहित्य किसानों से, मजदूरों से, गांवों से, आम जनता से जुड़ रहा था। साहित्यिक कमान आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी जैसी शख्सियत के हाथो में थी। ‘‘सरस्वती‘‘ पत्रिका लेखकों एवं कवियों के लिए सर्वाधिक प्रतिष्ठित मंच थी। गुप्त जी भी अपनी रचनाओं के साथ ‘‘सरस्वती‘‘ में छपने का सम्मान पाते थे। कवि गुप्त ने नाटकों की भी रचानाएँ की हैं। इस तथ्य को व्यापक प्रसिद्धि नहीं मिली। सच तो यह है कि गुप्त जी के विराट कवि व्यक्तित्व के सामने उनका नाट्य व्यक्तित्व प्रस्फुटित तो हुआ परंतु पल्लवित नहीं हो सका। समसामयिक समस्याओं को उजागर करने के लिए उन्होंने पाँच मौलिक नाटक लिखे: अनघ, चंद्रहास, तिलोत्तमा, निष्क्रिय प्रतिरोध और विसर्जन। साथ ही महाकवि भास के अनेक संस्कृत नाटकों का भी उन्होंने हिंदी में अनुवाद किया। इससे सिद्ध होता है कि गुप्त जी में नाटक लिखने की प्रतिभा तो थी परंतु दृष्टि उतनी व्यापक नहीं थी जो उन्हें नाटककारों की श्रेणी में खड़ा कर सकती थी। इस शोध पत्र में गुप्त जी के नाट्य कौशल की संक्षेप में विवेचना की जायेगी।

Read Keyword

 मैथिलीशरण गुप्त, नाटक, गद्य।

Read Reference

  1. डॉ नगेन्द्र, मैथिलीशरण गुप्त काव्य संदर्भ कोष।

2. गुप्त मैथिलीशरण, अतीत के हंस।
3. राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त।
4. मैथिलीशरण गुप्त के नाटक (प्रकाशक, साहित्य सदन, चिरगांव, झांसी)।

  • Overview
  • Read Abstract
  • Read Keyword
  • Read Reference
Read Abstract

 समाचार प्रकाशित करने के पहले संपादक और प्रबंधन यह तय करता है, कि कौन से स्रोतों को रिपोर्ट का हिस्सा बनना अथवा नहीं। इसके पीछे इसमें मीडिया आउटलेट, मालिक और यहाँ तक कि विज्ञापनदाता भी शामिल होता है, क्यूंकि किसी भी समाचार पत्र का राजस्व उसमे प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर आधारित होता है। आज इन्टरनेट और पेड मीडिया के दौर में संपादक की भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो जाती है कि कैसे ख़बरों की प्रमाणिकता को बनाये रखते हुए विज्ञापनदाता के हितों का भी ध्यान रखा जा सके। यह पत्र समाचार उत्पादन के सामाजिक स्तर पर उन मुद्दों का अध्ययन करता है जो समाचार निर्धारण के कारक हैं। समाचार, समाचार मूल्यों, गेटकीपिंग और मीडिया सामग्री पर प्रभाव जो समाचार संगठनों के लिए आंतरिक विषयवस्तु हैं, का सूक्ष्म-स्तरीय अध्ययन कर यह पत्र, विश्लेषण करने के लिए सामाजिक सामग्री संगठन दृष्टिकोण का उपयोग करता है।

Read Keyword

 समाचार उत्पादन, गेटकीपिंग, समाचार मूल्य, समाचार संगठन, विकासशील देश, मास कम्यूनिकेटर।

Read Reference

  1. एल्थाइड, डी. ‘क्रिएटिंग रियलिटीःहाउ टीवी न्यूज़ डिसटॉर्ट इवेंट्स’, लन्दन, सेज 1976।

2. गन्स, एच. ‘डीसाइडिंग व्हाट्स न्यूज़ःस्टडी सीबीएस,‘ ईवनिंग न्यूज, एनबीसी नाइटली न्यूज, न्यूज वीक एंड टाइम’, न्यूयॉर्क, विंटेज बुक्स 1980।
3. गुरेविच, एम. ब्लमलर, जे. ‘लिंकेज बिटवीन मास मीडिया एंड पॉलिटिक्सः अ मॉडल फोर दी एनालिसिस ऑफ़ पोलिटिकल कम्युनिकेशन सिस्टम’, जे. कुरेन, एम. गुरेविच, और जे. वूलाकॉट की ‘मास कम्युनिकेशन एंड सोसाइटी’ से द्य लन्दनरूएडवर्ड अर्नाेल्ड 1977 (पृष्ठ 271-289)।
4. गोल्डिंग, पी. और मर्डीक डी. ‘कल्चर, कम्युनिकेशन एंड पोलिटिकल इकोनोमी’ (चौप्टर) जे. कुरेन एंड एम. गुरेविच की ‘मास मीडिया एंड सोसाइटी’(द्वितीय संस्करण)से, 1996 (पृष्ठ11-30)।
5. चॉम्स्की, एन. ‘मीडिया कण्ट्रोलःस्पेकटेकुलर अचिवेमेंट्स ऑफ़ प्रपोगंडा’, न्यूयॉर्क, सेवन स्टोरीज़ प्रेस 1997।
6. चॉम्स्की, एन. ‘नेसेसरी इल्युज्न्सः थॉट कण्ट्रोल इन डेमोक्रेटिक सोसाइटी’, लन्दन, प्लूटो प्रेस 1989।
7. चतुर्वेदी, जगदीश्वर. ‘जन्माध्यम और मास कल्चर’, नई दिल्ली, सारांश प्रकाशन 1996।
8. पचौरी, सुधीश. ‘सूचना साम्राज्यवाद’, दिल्ली, शब्दकार 1984।
9. फिश्मन, एॅम. ‘मेनूफेक्च्रिंग दी न्यूज़’, लन्दन यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सास प्रेस 1980।
10. बरात, डी ‘मीडिया सोशियोलॉजी’, लंदन और न्यूयॉर्क, रूटलेज 1992।
11. बियर्डवर्थ, ए. ‘अनालिसिस प्रेस कंटेंटरूसम टेक्निकल एंड थिओरितिकल इश्यूज’। डब्ल्यू. विलियम्स और एफ. केनबर्ग के ‘ दी सोशियोलॉजी ऑफ़ जर्नलिज्म एंड प्रेस’ से, कील विश्वविद्यालय (पृष्ठ 371-395)।
12. माथुर, प्रदीप. ’संचार माध्यम’, दिल्ली, भारतीय जनसंचार संस्थान (जनवरी मार्च) 1997।
13. मार्टिन, जे., और चौधरी, ए. ‘कम्पेरेटिव मास मीडिया सिस्टम’ द्य न्यूयॉर्करूलॉन्गमैन 1983।
14. मैकक्वेल, डी. ‘मैकक्वेलस मास कम्युनिकेशन थ्योरी’ (चौथा संस्करण), लन्दन, सेज 2000।
15. मोस्टिन, टी. ‘सेंसरशिप इन इस्लामिक सोसाइटीज’, लन्दन, साकी बुक्स 2002।
16. रोशको, बी. ‘न्यूज़ मेकिंग’, यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो प्रेस, शिकागो 1975।
17. रघ. ‘दी अरब प्रेस, न्यूज़ मीडिया एंड पोलिटिकल प्रोसेस इन अरब वर्ल्ड’, क्रूम हेल्मरूलन्दन 1979।
18. लिपमैन, डब्ल्यू. ‘पब्लिक ओपिनियन’, न्यूयॉर्क, मैकमिलन 1922।
19. वाइट, डी. दी गेटकीपर, अ केस स्टडी इन द सिलेक्शन ऑफ़ न्यूज़, जर्नलिज्म क्वाटरली, 27 पृष्ठ 383-390। 
20. शोमेकर, पी. एंड रीज़,एस. ‘मेडीएटिंग दी मेसेज-थेओरिस ऑफ़ इन्फ्लुएंस ऑन मासमीडिया कंटेंट’, लन्दन, लॉन्गमैन 1991।
21. शूडसन, एॅम. सोशियोलॉजी ऑफ़ न्यूज़ प्रोडक्शन, मीडिया कल्चर एंड सोसाइटी 11,  1989  22. हॉल, एस.‘आइडियोलॉजी एंड कम्युनिकेशन थ्योरी’। बी. डर्विन की रिथिन्किंग कम्युनिकेशन से वॉल्यूम-1 पैरादिग्म इशू, लन्दन, सेज 1989 (पृष्ठ 40-52)।
23. हॉल, एस. ‘एन्कोडिंग एंड डिकोडिंग’, एस. ड्यूरिंग की दी कल्चर स्टडीज रीडर से, लन्दन, रूटलेज 1993।
24. हार्टले, जे. ‘अंडरस्टैंडिंग न्यूज़’, लन्दन, मेथुएन एंड कंपनी लिमिटेड 1982।
25. हरमन, ई. और चॉम्स्की, एन. ‘मेन्युफेक्चरिंग कंसेंटः दी पोलिटिकल इकॉनमी ऑफ़ मास मीडिया’, लन्दन, विंटेज 1994।
26. हरमन, ई. ‘प्रोपोगेन्डा मॉडलः अ रेट्रो स्पेक्टिव’, जर्नलिज्म स्टडीज, 2000।